सफल लोगों की क्या खासियत है |


 सफल लोगों की क्या खासियत है |

अगर आप मेरी बातों पर ध्यान नहीं देंगे तो क्या आपको पता चलेगा मैं क्या कह रहा हूं नहीं जीवन का हर पहलू इसी तरह है है ना अगर आप ध्यान नहीं देते तो आपको पता नहीं चलेगा कि आप क्या खा रहे हैं कैसी सांस ले रहे हैं क्या हो रहा है बहुत से लोग फूलों की खुशबू पर ध्यान नहीं देते या कोई भी दूसरी चीज पर वह पास से गुजर जाते हैं पत्थर की तरह या फिर कहीं बैल की तरह क्योंकि बैल महत्वपूर्ण होते हैं स्टॉक मार्केट में तो यह विकास प्रक्रिया में पीछे जाना हुआ आगरा बैल भालू की तरह चलें तो आप पीछे जा रहे हैं आप जीत होकर इंसान बने हैं लाखों सा लगे आपको पीछे नहीं जाना चाहिए इंसान होने का मतलब है।

तू यह अटेंशन एफिशिएंसी सिंड्रोम इसलिए हुआ है क्योंकि लोग जानकारियों को शिक्षा समझते हैंफिलहाल हमारी पूरी शिक्षा व्यवस्था ही ऐसी है आप पर जानकारी का ढेर डाल देना आप जितनी ज्यादा जानकारी कटहल लगाएंगे किसी दिमाग में क्या कहे कि बचपन से जानकारी डाली जाए तो उसकी ध्यान देने की रूचि उतनी ही कम हो जाएगी क्योंकि कुछ भी जाने बिना जानकारी आपको एक झूठी भावना देती है कि आप सब जानते हैं यह आप एक फैशन बन गया आज अगर आपको एक डिनर पार्टी में आमंत्रित किया गया है तो आप गूगल पर 100 करोड़ आकाशगंगा ओं की जानकारी तोड़ते हैं उन सभी को नंबर और नाम दे दिए गए हैं ठीक है वह 567 वह गैलेक्सी उसके बारे में आपके पास कुछ जानकारी है आप गूगल पर जाते हैं 2 वाक्य उठाते हैं और पार्टी में जाते हैं जो भी आपसे बात करता है नमस्ते आप कैसे हैं |

 आप कहते हैं अरे किसी के बारे में जानते हैं जो करोड़ों प्रकाश वर्ष दूर है जो बीबी ऐसा कुछ है आप इस बारे में बात करते हैं और सभी को लगता है कि आप स्मार्ट है। पूरी दुनिया के साथ फिलहाल यही समस्या है हम सूचना को बुद्धि समझने की गलती कर रहे हैं एक व्यापारी या कोई भी इंसान जो किसी परिस्थिति में रास्ता खोजना चाहता है उसे बुद्धि की जरूरत है ना कि को सूचना की सूचना थोड़ी उपयोगी हो सकती है लेकिन बुद्धि ही आपको किसी विशेष स्थिति से गुजरने का एक अनूठा रास्ता दिखाएगी ना कि वैसा रास्ता जो कोई और अपना रहा है। हम सूचना को बुद्धि समझने की गलती कर रहे हैं।

जब आप खुद में बहुत ज्यादा जानकारी का टेल लगा लेते हैं तो ध्यान देना बहुत मुश्किल हो जाता है जब आप बिल्कुल ध्यान नहीं देते जब आप में ध्यान बनाए रखने की कोई क्षमता नहीं होती तो आपने अपनी बुद्धि तक पहुंचने की क्षमता भी खो दी है आप बस याददाश्त से सूचना बाहर निकालते रहेंगे एक सुंदर घटना हुई, आपने एंड्रयू कार्नेजी के बारे में सुना है जब एंड्रयू कार्नेजी ने अपना व्यापार शुरू किया तो थोड़े ही समय में वह बहुत सफल हुए और उन्होंने बहुत पैसा कमाया उस समय यह गूगल या फेसबुक या ट्विटर का युग नहीं था कि वह 2 सालों में खरब पति बन जाते हैं उन दिनों लोगों को उद्योग वगैरा लगा कर पैसा कमाना पड़ता था जिसमें 10 को या पीढ़ियां लग जाती थी। तो इन्होंने बहुत कम समय में बहुत पैसा कमा लिया लोगों को शक हुआ अमेरिकी सरकार को शक हुआ कि यह कुछ गलत कर रहे हैं तो उन्होंने एक सैनिक पूछताछ कमेटी बनाए और उन्हें इनसे हर तरह के सवाल पूछे और उन्हें पता चला कि इनके व्यापार में कुछ भी गलत नहीं फिर उन्होंने पूछा कि आप इतना पैसा कमाकर इतने सफल कैसे हो गए तब एंड्रयू ने बहुत ही सरल बात कही मैं अपने मन को किसी चीज पर 5 मिनट तक लगातार रख सकता हूं।

5 मिनट क्या आप में से कोई भी ऐसा कर सकता है सभी सीनेटर सोचने लगे 5 मिनट में क्या मुश्किल है और उन्होंने एक प्रयोग तैयार किया उन्होंने अपना ध्यान हटाने की कोशिश की वह कुछ सेकंड तक भी नहीं दिखा पाए एक पल यहां दूसरे पल वहां ज्यादातर इंसानों की यही हालत है तो फिर वह बोले आपको अमेरिका नहीं चलाना चाहिए तो इंसान ही क्षमता चित्त नाम की एक चीज होती है अंग्रेजी भाषा में सिर्फ माइंड होता है ज्यादातर मन की यादों से जुड़े हिस्से को मन माना जाता है। योगिक सिस्टम में मन के चार मुख्य पहलू हैं मैं विस्तार से नहीं बताऊंगा लेकिन मन का यादों वाला हिस्सा सबसे कम महत्वपूर्ण है जो चेतना से जुड़ा होता है वह सबसे महत्वपूर्ण होता है चित्त अगर आपको चित्त को कोई आकार देते तो वह आकार हमेशा सच्चाई बनेगा। क्योंकि इसमें जीवन बनाने वाली शक्ति है जिसे हम शब्दों की कमी की वजह से चेतना कह रहे हैं वह जो जीवन का आधार है जब आपका मन उससे जुड़ जाता है तो आपका मन जो आकार लेता है मन ही बादल की तरह है आप उसे कोई भी आकार दे सकते हैं आप उसे देवता बना सकते हैं आप उसे शैतान बना सकते हैं आप उसे पशु बना सकते हैं आप से जो चाहे बना सकते हैं यह आकार रहित चीज है तो अपने चित्त को आप जो आकार देते हैं वह हमेशा दुनिया में सच्चाई बनेगा क्योंकि इससे जीवन को बनाने वाली ऊर्जा से शक्ति मिलती है।

तो यही मन का सबसे महत्वपूर्ण पहलू है ना की यादें यादें सिर्फ भौतिक चीजों को संभालने के लिए जरूरी यह हो सकता है कि एक व्यापारी बस भौतिक चीजों को संभालना चाहिए ठीक है लेकिन मैं चाहता हूं कि व्यापारी का जीवन एक मजेदार रोमांच बन जाए जहां नई संभावना को खोजने की प्रक्रिया उसके अनुभव में भी वाकई नई संभावनाएं लाए ना कि सिर्फ आर्थिक संभावनाएं बने और यह संभावना एक व्यापारी के जीवन में मौजूद है कि वह अपने व्यापार को एक आध्यात्मिक संभावना और आध्यात्मिक विकास में बदल सकता है या अपने अस्तित्व के विकास में जो मुझे लगता है कि सभी को खोजना चाहिए यही वजह है कि हम एक आध्यात्मिक तत्व लाने की कोशिश कर रहे हैं सफलता आसानी से मिलेगी किसी अन्य चीज की तुलना में क्योंकि सफलता इसलिए आसान नहीं होगी कि कोई जादू होगा बल्कि इसलिए कि आप अपनी पूरी क्षमता से काम करते हैं। ज्यादा सूचना के साथ ज्यादा सूचना का मतलब है कि जो चीज आपकी नहीं है उसे आप अपनी यादों से जोड़ लेते और उसके आधार पर अपनी पहचान बना लेते हैं आप जितना ज्यादा वैसा करते हैं आप उतने ही कम असरदार बनते जाते हैं लेकिन फिलहाल हमारी पूरी शिक्षा व्यवस्था जानकारी देना है और इंटरनेट मौजूद है |

एक 12 साल का बच्चा जानता है कि वहां करोड़ों प्रकाश वर्ष दूर जो गैलेक्सी है उसका नाम क्या है जो उसके लिए अच्छा नहीं है क्योंकि यह ज्ञान नहीं है यह किसी भी तरह से उपयोगी नहीं है यह बस अपनी बड़ाई करने के काम आता है और सबसे बढ़कर आपकी ध्यान देने की क्षमता नष्ट कर देगा क्योंकि ध्यान देने का आधार यह है कि आपको एहसास है कि आप इस ब्रह्मांड में एक कण को भी ठीक से नहीं जानते आप एक अनु को भी पूरी तरह से नहीं जानते इसलिए अब ध्यान दे पाते अगर आपको लगता है तो आप ध्यान नहीं दे सकते जानकारी का घमंड है आप में ध्यान देने की कमी पैदा करता है।


Post a Comment

0 Comments