अकेले रहना कैसे सीखे?


अकेले रहना कैसे सीखे?


आपको तय करना चाहिए कि आपके जीवन में अधिक महत्व किसका है आजादी का या बंधन का प्लीज मैं सुनना चाहूंगा मगर आजाद होने पर आपको एवं एसुस करते हैं अगर आप पहाड़ों पर जाएं और अब पूरी तरह आजाद हूं मतलब कोई भी कुछ भी आसपास में हो आप बस पहाड़ों के खाली इलाके में हूं तो आप आजाद नहीं महसूस करते आप खोया वह महसूस करते हैं तो आजादी को संभालने के लिए एक स्तर की स्पष्टता और शक्ति की जरूरत होती है ज्यादातर लोग आजादी को नहीं संभाल सकते वह हमेशा खुद को बांधने की कोशिश करते हैं |


मगर हर समय आजादी की बातें करते रहते हैं अगर आप उन्हें वाकई आजाद कर दें तो उन्हें बहुत दुख मिलेगा तो यह क्रमिक विकास की समस्याएं कहने का मतलब है इस तरह से इंसान से लाल पिंजरे के पंछी की तरह है अगर आप किसी चिड़िया को लंबे समय तक एक पिंजरे में रखे और फिर 1 दिन पिंजरे का दरवाजा खोल दें तब भी वह चिड़िया नहीं उड़ेगी अंदर होने पर वह विरोध करेगी कि वह आजाद नहीं है मगर वह इंसान की स्थिति ऐसी है बाकी सभी प्राणियों के लिए प्रकृति ने दो लकीरे कीजिए जिसके भीतर उन्हें जीना और मरना होता है और वही करते हैं मगर सिर्फ इंसानों के लिए बस नीचे की लकीर होती ऊपर नहीं होती।


और उन्हें इसी बात की तकलीफ है अगर उनका जीवन भी हर दूसरे प्राणी के जीवन की तरह तय होता तो वह दुखी नहीं होते बेचैन नहीं होते अपनी बुद्धि को संभालने के लिए परेशान ना होते और अनजाने में आप यही खोज रहे हैं आप उसे संबंधों के रूप में खोज सकते हैं पेशे के रूप में खोज सकते हैं राष्ट्रीयता के रूप में खोज सकते हैं या खोज सकते हैं जात समुदाय भगवान स्वर्ग या नर्क के रूप में आप बस एक नकली लकीर खींचने की कोशिश कर रहे हैं जिसका अस्तित्व ही नहीं है क्योंकि आजादी के लिए साहस की जरूरत होती है एक तरह के पागलपन की जरूरत होती है अगर आप बहुत समझदार हैं तो आप आजाद नहीं हो सकते क्योंकि आप तरकी दो लकीरों के बीच चलेंगे आजाद होने के लिए बहुत ताकत चाहिए कि आप सबसे पहले अगर आप आजाद होना चाहते हैं।


तू जिस चीज की जरूरत है क्या आप जानते हैं कि हर इंसान के अनुभव का एक रासायनिक आधार होता है जिसे आपको सुख कहते हैं वह एक तरह की केमिस्ट्री है दुख दूसरी तरह की केमिस्ट्री है तनाव एक तरह की केमिस्ट्री है बेचैनी अलग तरह की केमिस्ट्रीपीड़ा एक तरह की केमिस्ट्री है परमानंद एक अलग तरह की केमिस्ट्री है एक्सटसी तो आप जानते हैं कि एक तरह की केमिस्ट्री है मैंने सुना तो आपके जीवन के अनुभव का एक रासायनिक आधार है यह इसे देखने का सबसे सही तरीका है इसके दूसरे आयाम भी हैं मगर आप को समझाने के लिए या दूसरे शब्दों में जिसे आप अभी मैं कहते हैं। एक बार जब आपके होने का तरीका किसी बाहरी चीज से तय नहीं होता तो अकेलापन जैसी कोई चीज नहीं होती बल्कि आप अपने अकेलेपन का आनंद लेंगे क्योंकि आप चाहे या ना चाहे इस छोटी उम्र में यह समझना थोड़ा मुश्किल है आप चाहे या ना चाहे इस शरीर के अंदर आप हमेशा अकेले होते हैं चाहे आप संवाद करें या संभोग या और कुछ और कुछ और कुछ फिर भी आप इस शरीर में अकेले हैं। इसे तकलीफ मत समझिए यह सबसे सुंदर चीज है मगर आप थोड़ा रोमांटिक होकर तरसने का आनंद लेना चाहते हैं। 


Post a Comment

0 Comments